मुठभेड़ में मारे गए आठ नक्सलियों पर बड़ा खुलासा, छह पर था 48 लाख का इनाम; सुरक्षाबलों ने ऐसे किया ढेर
त्वरित ख़बरें - दीपमाला शेट्टी रिपोर्टिंग

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में सुरक्षाबलों ने आठ नक्सलियों को दो दिन पहले मुठभेड़ में मार गिराया है। इनमें चार महिलाएं भी शामिल हैं। सुरक्षाबलों को घटनास्थल से भारी मात्रा में हथियार भी मिले हैं। छह नक्सलियों पर कुल 48 लाख रुपये का इनाम था। अभी दो की पहचान नहीं हो पाई है। केवल बस्तर संभाग में इस साल अब तक 131 नक्सलियों के शव मिले हैं।

नारायणपुर। दो दिन पहले सुरक्षाबलों ने छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में मुठभेड़ में आठ नक्सलियों को मार गिराया था। अब इस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। आठ में से छह नक्सली वरिष्ठ रैंक के कैडर थे और इन पर 48 लाख रुपये का इनाम था। पुलिस के मुताबिक ये कैडर नक्सलियों की पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (PLGA) मिलिट्री कंपनी नंबर 1 और माड डिवीजन सप्लाई टीम फॉर्मेशन के थे।

एक हफ्ते में दूसरी बड़ी सफलता

बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने रविवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि नारायणपुर पुलिस के 'माड़ बचाओ अभियान' के एक सप्ताह के अंदर यह दूसरी बड़ी सफलता है और 45 दिनों में चौथी बड़ी सफलता है। उन्होंने कहा नारायणपुर जिले का अभुजमाड़ 40 वर्षों से नक्सली हिंसा और भय से ग्रस्त था, लेकिन अब स्थानीय लोग, आदिवासी और ग्रामीण इस हिंसा, भय और नक्सलवाद से मुक्त होना चाहते हैं। सफल नक्सल विरोधी अभियानों से विकास को गति मिल रही है।

छह की हुई पहचान

पुलिस ने शनिवार को जिले के कुतुल-फरसबेड़ा और कोडतामेटा गांवों के नजदीक जंगलों में मुठभेड़ में आठ नक्सलियों को मार गिराने का दावा किया। आईजी ने कहा कि आठ में से छह की पहचान सुदरू, वर्गेश, ममता, समीरा, कोसी और मोती के रूप में हुई है। यह सभी माओवादियों की पीएलजीए कंपनी नंबर 1 में विभिन्न पदों पर सक्रिय थे। सभी पर आठ लाख रुपये का इनाम था।

पुलिस, बीएसएफ और आईटीबीपी ने किया ऑपरेशन

पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिले के कुतुल, फरसबेड़ा, कोडतामेटा और अडिंगपार गांवों में नक्सलियों के मौजूद होने की सूचना मिली थी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने 12 जून की देर रात 'माड़ बचाओ अभियान' के तहत ऑपरेशन शुरू किया। इसमें राज्य पुलिस के जिला रिजर्व गार्ड, स्पेशल स्टास्क फोर्स (STF), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की 53वीं और सीमा सुरक्षा बल (BSF) की 135वीं बटालियन के जवानों ने हिस्सा लिया। महिला कमांडो ने भी पूरे ऑपरेशन में अहम भूमिका निभाई।

चार महिलाओं समेत आठ शव मिले

शनिवार सुबह करीब सात बजे कुतुल-फरसबेड़ा और कोडतामेटा गांवों के पास जंगल में हथियारबंद नक्सलियों ने सुरक्षाकर्मियों पर गोलीबारी शुरू की। इसके बाद सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई की। आईजी ने बताया कि मुठभेड़ खत्म होने के बाद अलग-अलग जगहों से वर्दी पहने चार महिलाओं समेत आठ नक्सलियों के शव मिले।

सुरक्षाबलों को ये सामान मिला

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक कई अन्य नक्सली घने जंगल और पहाड़ियों की आड़ लेकर भाग निकले। सुरक्षाकर्मियों ने एक इंसास राइफल, दो 303 राइफल, तीन 315 बोर राइफल, एक बैरल ग्रेनेड लांचर और भारी मात्रा में विस्फोटक, दवाइयां और अन्य दैनिक उपयोग की वस्तुएं बरामद कीं।

एक जवान शहीद

पुलिस अधिकारी ने कहा कि घटनास्थल पर मिले खून के धब्बे लगता है कि मुठभेड़ में कई अन्य नक्सली घायल या मारे गए हैं। बता दें कि मुठभेठ में एसटीएफ कांस्टेबल नितेश एक्का (27) शहीद हो गए हैं। उनके दो साथी लेखराम नेताम (28) और कैलाश नेताम (33) घायल हुए हैं। दोनों रायपुर के एक अस्पताल में भर्ती है।

बस्तर संभाग में इस साल 131 नक्सलियों के शव मिले

अधिकारी ने बताया कि स्थानीय पुलिस और केंद्रीय अर्धसैनिक बल के बीच बेहतर समन्वय और रणनीति के कारण इस साल अब तक बस्तर संभाग में मुठभेड़ों के बाद 131 नक्सलियों के शव मिले हैं। बस्तर संभाग में कांकेर, कोंडागांव, नारायणपुर, बस्तर, बीजापुर, दंतेवाड़ा और सुकमा जिले आते हैं।

कब और कहां हुई मुठभेड़

  • पांच जून को नारायणपुर में मुठभेड़ में छह नक्सलियों को मार गिराया गया था।
  • 23 मई को नारायणपुर-बीजापुर सीमा पर सात नक्सली को ढेर किया गया था।
  • 10 मई को बीजापुर में मुठभेड़ में 12 नक्सलियों को सुरक्षाबलों ने मारा था।
  • 30 अप्रैल को नारायणपुर-कांकेर जिले की सीमा पर 10 नक्सलियों को मार गिराया गया था।
  • 16 अप्रैल को कांकेर जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 29 नक्सली मारे गए थे।

YOUR REACTION?

Facebook Conversations